फौजी और चिट्ठी – हरयाणवी कविता

चिट्ठी और फौजी का एक बहुत ही गहरा सम्बन्ध रहा है। अब बेशक मोबाइल के चलने से चिट्ठी का आदान प्रदान थोड़ा बहुत कम हो गया है ,लेकिन पुराने समय में फौजी एक चिट्ठी के माध्यम से अपने परिवार,अपने घर और अपने गाँव से जुड़ा रहते थे।
Image result for soldier reading letter
बॉर्डर पर रक्षा करते हुए हमारे जवान चिट्ठी की प्रतीक्षा करते रहते थे और चिट्ठी आते ही पहले उसको चूमकर माथे से लगाते थे। क्योंकि उसमे उनके परिवारों का प्यार और उनके भाव छिपे रहते थे। लेकिन आजकल के डिजिटल ज़माने में चिट्ठियों का आना जाना कम हो गया है।
    आज आपके लिए लेकर आये हैं एक हरयाणवी कविता जिसमे एक फौजी और उसकी घरवाली के बीच वार्तालाप है। एक फौजी अपने परिवार से दूर रहता है अपने देश की रक्षा करता है सरहद पर रहता है और वहां से अपनी पत्नी को चिट्ठी लिखकर घर के और अपने प्यार के हाल पूछता है अपने शहीद हो जाने के बाद अपनी पत्नी से कहता है कि तुम अपनी जिम्मेदारियों को निभाना यही सब है इस चिट्ठी में उसका नाम है चिट्ठी फौजी की तो आइए पढ़ते हैं।

image search result for chitthi aur fauji poem

image search result for chitthi aur fauji poem

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 3.7 / 5. Vote count: 3

No votes so far! Be the first to rate this post.

You might also like
1 Comment
  1. Pinki says

    Love you foji

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!